40 की उम्र होते ही अकसर पुरुष छोड़ देते है नौकरी, यह है कारण

अध्ययन में पाया गया है कि युवाओं के नौकरी छोड़ने की प्रवृति एक तरह से शुरू हो गई है. दावा किया गया है कि 2023 में 20 युवाओं में से एक ने नौकरी या पढ़ाई बीच में छोड़ दी क्योंकि उनका स्वास्थ्य इस कदर खराब हो गया कि काम करने की क्षमता से बाहर हो गए. यह रुझान शिक्षा पर भी नकारात्मक असर डाल रहा है. वहीं इसका सबसे ज्यादा असर कम पैसा कमाने वाले लोगों पर दिखाई देगा या जो लोग बेरोजगार हैं, उनके लिए और मुश्किलें खड़ी होंगी. अध्ययन के मुताबिक यंग लोग सबसे ज्यादा मेंटल हेल्थ की समस्याओं से जूझ रहे हैं. अगर इससे 20 साल पहले के अध्ययन पर ध्यान दें तो मामला उल्टा था क्योंकि तब युवाओं में मेंटल हेल्थ के बहुत कम ही मामले थे.

आर्थिक संकट भी कम नहीं
हालिया रुझानों में पाया गया कि 18 से 24 साल के 34 प्रतिशत युवा 2021-22 में किसी न किसी तरह के मेंटल हेल्थ के शिकार थे. इनमें एंग्जाइटी, डिप्रेशन या बायपोलर डिसॉर्डर सबसे आम थी. इसकी ताकीद इस बात से हो रही है कि 2021-22 में ही 18 से 24 साल के 5 लाख युवा एंटी-डिप्रेशन की गोलियां ले रहे हैं. ये सारे आंकड़ें इस बात की ओर इशारा है कि युवा 40 साल की उम्र तक आते-आते इन बीमारियों की वजह से काम करने की अपनी क्षमता को ही खो देंगे. रिजॉल्यूशन फाउंडेशन के सीनियर इकोनोमिस्ट लूइस मर्फी ने बताया कि इस अध्ययन से यह भी साबित हो रहा है कि आने वाले दिनों में इन युवाओं पर आर्थिक संकट का बोझ बहुत ज्यादा होने वाला है. खासकर उन युवाओं पर जिन्होंने यूनिवर्सिटी की डिग्री न ली है क्योंकि आज भी तीन में से एक युवा मेंटल हेल्थ से जूझ रहे हैं और वे ग्रेजुएट नहीं हैं. अध्ययन में यह भी कहा गया कि युवा पढ़ाई में भी कमजोर हो रहे हैं. स्टडी के मुताबिक 18 से 24 साल के 79 प्रतिशत युवा इन बीमारियों के कारण सेकेंडरी एजुकेशन के लेवल मैथ, इंगलिश के सवाल नहीं बना पा रहे हैं. बच्चों में भी यह प्रवृति बढ़ रही है. हालांकि यह आंकड़े सिर्फ ब्रिटेन के हैं लेकिन कमोबेश आज दुनिया की स्थिति यही है

Hindi News Haryana

Learn More →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *